Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

भाजपा का दोमुंहापन

भाजपा का दोमुंहापन


प्रकाश करात, माकपा महासचिव

 

 

भाजपा के चुनाव अभियान का दोमुंहापन बेनकाब होता जा रहा है। इसके ऊपर जहां ”विकास के बारे में मोदी उवाच और सुशासन तथा रोजगार के वादे का मुलम्मा है। वहीं उसके नीचे छुपा हुआ है एक सघनसांप्रदायिक अभियान, जो खासतौर से उत्तरप्रदेश तथा बिहार पर केंद्रित है।

 

भाजपा/ आरएसएस नेताओं के हाल के भाषण और टिप्पणियां इस अभियान के कट्टर हिंदू तथा सांप्रदायिक चरित्र को ही दिखा रहे हैं। भाजपा के नेता और बिहार में नवादा के उसके उम्मीदवार गिरिराज सिंह नेअपने एक चुनावी भाषण में घोषित किया कि ”जो लोग नरेंद्र मोदी को रोकना चाहते हैं, वे मदद के लिए पाकिस्तान की ओर देख रहे हैं। आनेवाले दिनों में ऐसे लोगों के लिए भारत में कोई जगह नहीं होगी…क्योंकि उनकी जगह पाकिस्तान में होगी। हिंदुत्व के सभी आलोचकों को देशद्रोही तथा पाकिस्तान-परस्त करार देना संघ गठजोड़ की पुरानी तिकड़म है। पाकिस्तान की तरफ इशारा करने का अर्थ मुस्लिमसमुदाय को निशाना बनाने का भी होता है, जिन्हें हमेशा पाकिस्तान के वफादारों के तौर पर पेश किया जाता है।

 

इससे कोई हफ्ता भर पहले मोदी के खासुलखास अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में ऐसा ही एक भाषण दिया था। नफरत फैलानेवाले इस भाषण में उन्होंने घोषणा की थी कि ”यह हमारी बिरादरी सेसाथ किए गए अपमान का बदला लेने का वक्त है। यह चुनाव उन लोगों को जवाब होगा जिन्होंने हमारी माताओं तथा बहनों के साथ दुर्व्यवहार किया। यह आह्वान उस क्षेत्र में जाटों के एक इलाकों से किया गयाथा जहां हाल के समय की सबसे बदतरीन किस्म की सांप्रदायिक हिंसा हुई थी और इसका मकसद ”बदला लेने तथा सम्मान की रक्षा करने की बात कहकर सिर्फ सांप्रदायिक नफरत भड़काना था। खास बात यह हैकि भाजपा नेतृत्व ने यह कहते हुए अमित शाह का बचाव किया कि वे सिर्फ मतदान के जरिए बदला लेने की बात कह रहे थे। खुद नरेंद्र मोदी उनके बचाव में आगे आ गए थे।

 

नफरत से भरे ऐसे भाषण अल्पसंख्यक समुदाय और उन लोगों के खिलाफ केंद्रित होते हैं, जो हिंदुत्व के एजेंडे का विरोध करते हैं। ये भाषण उस अभियान का हिस्सा हैं जो पूरे आरएसएस कैडर द्वारा चलाया जारहा है, जो भाजपा के चुनाव अभियान के समर्थन में मैदान में हैं। आरएसएस के दस्ते घर-घर पहुंच रहे हैं और ऐसे पर्चे बांट रहे हैं जिनमें हिंदुओं से अपील की जा रही है कि आगे आएं और विद्वेषपूर्ण शत्रुओं सेदेश को बचाने के लिए 100 फीसद मतदान करें।

 

विश्व हिंदू परिषद, जो कि आरएसएस का संगठन है, के नेता प्रवीण तोगडिय़ा ने इस मौके का इस्तेमाल मुसलमानों के खिलाफ विषवमन करने के लिए किया है। गुजरात के भावनगर में एक मुस्लिम व्यापारीद्वारा खरीदे गए घर के सामने एक विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए उन्होंने घोषणा की कि 48 घंटे के भीतर घर खाली कर दिया जाए। अगर ऐसा नहीं होता है तो हिंदुओं को जबर्दस्ती घर पर कब्जा करलेना चाहिए।  तोगडिय़ा का कहना है कि हिंदू इलाकों में मुसलमानों को घर लेने का कोई अधिकार नहीं है। यहां एक बार फिर आरएसएस उसके बचाव में आगे आया और दावा किया कि उसने वह टिप्पणी की हीनहीं थी, जो कि वीडियो टेप पर उपलब्ध हैं। तोगडिय़ा जो धमकी दे रहे हैं, मोदी के गुजरात में वास्तव में वही हो रहा है। अहमदाबाद, वडोदरा और दूसरे शहरों में मुसलमान उन आवासीय परिसरों में घर खरीद हीनहीं सकते हैं, जो हिंदुओं के लिए हैं। पिछले कुछ दशकों से ऐसी ही बाड़ेबंदी (घेटोकरण) और पृथक्करण चल रहे हैं।

 

नरेंद्र मोदी एक ऐसे अभियान की अगुवाई कर रहे हैं जिसमें चौतरफा विकास और प्रभावी सरकार की बातें की जा रही हैं। लेकिन वह जिस तरह सांप्रदायिकता से लैस है और विभाजनकारी घृणा से भरा हुआ है, उसेकिसी भी तरह छुपाया नहीं जा सकता है। खुद मोदी की मौजूदगी में शिवसेना नेता रामदास कदम ने गत 21 अप्रैल को मुंबई की एक रैली में घोषणा की कि ‘दुव्र्यवहार’ करनेवाले मुसलमानों को मोदी सबकसिखाएंगे।

 

समझने की बात यह है कि ये घटनाएं कुछ लोगों का मतिभ्रंश नहीं है। यह भाजपा और नरेंद्र मोदी के राजनीतिक मंच का अभिन्न हिस्सा है। जनता और देश के लिए यह एक चेतावनी है।

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: