Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

Archives for : October2017

UP- Woman found dead ahead of Rape hearing involving BJP worker #Vaw

Harveer Dabas| TNN | 

Bijnor: A 36-year-old woman who had filed a complaint in court against a local BJP leader for attempting to rape her was found dead under mysterious circumstances on Tuesday. The woman, living alone with her five kids after her husband moved to Delhi last year for work, had told police she was being constantly harassed. After seeing the police’s reluctance to take action in the matter, she had later approached the chief judicial magistrate’s court for intervention. The first hearing was to come up next week.

The woman, a Dalit, suddenly went missing on Monday. On Tuesday morning, her body was found 250 metres away from the village in a sugarcane field. There were strangulation marks on her neck.

According to former village head Guru Sevak, she had written to several district officials after police failed to register her complaint of the alleged rape attempt by Badarpur (rural) BJP president Vijay Singh.

When contacted, Singh said, “Guru Sevek wanted to grab a piece of land belonging to a poor man. When I opposed him, he used the woman to trap me in a fake case. She used to live with him. I have nothing to do with this case.”

However, in a complaint also given to administrative officials on ‘tehsil divas’ on September 1, the victim had written: “When BJP came to power in UP, I approached Vijay Singh for construction of my house under a government scheme. He assured help and took me to a senior leader’s house on June 26. On our way back, Singh along with one of his companions started molesting me. I somehow escaped. When I approached cops later, they refused to register an FIR.”

Tehsil divas is a specific day every month when senior administrative officials gather to take complaints from local residents on a variety of issues.

Badarpur station house officer Raj Kumar Sharma said, “We are questioning both Guru Sevak and Vijay Singh.” On Tuesday evening, police also filed a case against Sevak. “Police have filed a case against him based on the complaint of one Shaunath Singh, who alleged that just before her death Sevek had telephoned the woman.”

Related posts

BJP MP says Chhattisgarh girls becoming ‘tan-a-tan’: Politicians who made sexist remarks #Vaw

A video showed a BJP MP saying Chhattisgarh girls are becoming “tan-a-tan”, triggering outrage on social media websites.

HT Correspondent
Hindustan Times, New Delhi
BJP MP Bansilal Mahto said Chhattisgarh women were becoming ‘tan-a-tan’.
BJP MP Bansilal Mahto said Chhattisgarh women were becoming ‘tan-a-tan’. (ANI Photo)

A video circulating online showed a BJP MP saying Chhattisgarh girls are becoming “tan-a-tan”, triggering outrage on social media websites.
Twitter user Anshul Saxena said: “BJP MP says Chhattisgarh girls are now becoming “tan-a-tan”. And we are expecting Beti Bachao, Beti Padhao from BJP leaders. Shame on him.”

But sexism and misogyny are rampant among the political class. Here are some of the shamefully sexist remarks made by Indian politicians in the past few years:

 

 

 

Sharad Yadav

Ahead of assembly elections in five states earlier this year, Janata Dal (United) leader Sharad Yadav had made a bizarre analogy between the ‘izzat’ or honour of a vote and a woman. “Honour of vote is bigger and important than honour of daughter,” Yadav said at a function in Patna.

This was not the first time that Yadav has made controversial remarks that demean women. In 2015, he said in the Rajya Sabha, “The body of women from south is as good as beautiful they are. They (women) in our region are not that good as those (in south) know dancing.”

Giriraj Singh

In 2015, the BJP MP targeted Congress president Sonia Gandhi in a racist and sexist remark , questioning whether the party would have accepted her as its chief if the colour of her skin had not been white.

“If Rajiv Gandhi had married a Nigerian and if she wasn’t white , would Congress accept her as a leader?” the BJP MP from Bihar had said.

Digvijaya Singh

Congress leader Digvijaya Singh was widely panned in 2013 for referring to Lok Sabha MP Meenakshi Natarajan as ‘100% tunch maal’. The colloquial ‘tunch maal’ is widely used in the Hindi heartland to commodify women as a ‘sexy item’. Singh argued that what he meant was an alternate, but rarely used, meaning of ‘tunch’ – pure and solid.

“Gandhivadi hain, saral hain, imandar hain. Sabke paas jaati hain, gaon gaon jaati hain. Rajneetigyon ko thodi si baat me pata chal jaata hai ki kaun farzi hai, kaun sahi hai. Main purana jauhri hoon, ye 100% tunch maal hai. (Natrajan is a Gandhian. She meets everyone, visits villages. She is genuine. I am a veteran goldsmith and I know she is ‘100% tunch maal’),” Singh said, with Natrajan on the podium.

Abhijit Mukherjee

Abhijit Mukherjee, a Congress MP and son of President Pranab Mukherjee, shocked the nation in December 2012 when he labelled women protesting against the Delhi gang rape as “highly dented-painted”.

“What’s basically happening in Delhi is somewhat like Egypt or elsewhere, where there was something called the Spring Revolution, which has very little connection with ground realities. In India, staging candle-light marches, going to discotheques – we did all this during our student life too, we were students too – I know very well what kind of character students should have,” Mukherjee said.

“Those who claim to be students – I can see many beautiful women among them they were highly dented-painted – they’re giving interviews on TV, they’ve brought their children to show them the scenes,” Mukherjee said. He later apologised for the off-colour remark.

Abu Azmi

After the recent allegations of mass molestation in Bengaluru, Samajwadi Party’s Maharashtra unit chief Abu Azmi’s made an appalling remark, blaming women in “half dress” for the reported incident that happened on December 31, 2016.

“When few women in half dress come out on streets at late night with their friends, such incidents do occur… Ladies hailing from well-to-do families, be it from Maharashtra, Gujarat, Rajasthan or UP, they come out in decent attire and mostly with their family members,” he had said.

Police, however, later said no such incident ever took place.

Mulayam Singh Yadav

Samajwadi Party (SP) chief Mulayam Singh Yadav in 2014 said it was unfair to award death penalty to rapists for their ‘mistakes’. “Rape ke liye phaansi dena ghalat hai, ladkon se ghalti ho jaati hai, hum satta mein aaye to kanoon mein badlav karenge (Handing death sentence for rape is not fair… boys make mistakes… there will be changes in the law if we come to power).”

He added boys and girls fall in love but part ways due to differences. “When their friendship ends, the girl complains she has been raped,” said Yadav.

Laxmikant Parsekar

Former Goa chief minister Laxmikant Parsekar in 2015 allegedly advised protesting nurses not to stage a hunger strike under the hot sun as it could darken their complexion and affect their marital prospects, joining a growing list of ministers from the state who have drawn criticism for their public comments.

Vinay Katiyar

BJP leader Vinay Katiyar made a sexist comment on Priyanka Gandhi Vadra’s election campaigningin Uttar Pradesh in January. “There are many beautiful star campaigners. There are many heroines and artistes who are more beautiful,” he said.

(A version of this article was published in January 2017)

Related posts

Gujarat- BJP Neta tied to tree , beaten up over slum demolition

Hasmukh Patel, a BJP councillor in Vadodara, was tied to a tree and thrashed by a group of residents of Bapod area on Tuesday.Around 118 families living near Bapod lake were displaced in a demolition drive in May and given alternative housing nearby.When Patel went there to clear vegetation overgrowth, the angry mob vented their anger over displacement
Corporator Tied To Tree, Beaten Up By Angry Mob
In an unprecedented display of public wrath, a group of citizens tied a sitting corporator of ruling BJP in the Vadodara Municipal Corporation (VMC) to a tree and thrashed him in Bapod area on the city’s outskirts on Monday .Hasmukh Patel (60), corporator and member of VMC’s standing committee, had to face the anger of people who were displaced from their houses near Bapod lake five months ago in a razing drive for beautification of the water body . The group not only subjected him to the humiliating treatment but also shot the video of his plight, which went viral on social media.

Patel and VMC executive engineer Amrut Makwana had reached Bapod to look into some civic complaints. The ousted from the slums got to know that Patel was present there and rushed to the spot. They picked up an argument with Patel and star ted manhandling him. When Makwana intervened, they dragged Patel away . Makwana called the police but before they could arrive, the mob tied him with a tree and started thrashing him. Patel’s son Suketu who had rushed to the spot when Patel’s driver informed him about the incident was also beaten up by the mob.

The mob kept asking him why were houses that were constructed under the Indira Aavas Yojana razed by the civic body? Members of the mob are also seen asking him why were no notices issued by the VMC for the razing drive? One of the residents also alleged that Patel had not handed them over the notices about razing their houses.

“I tried to intervene, but they dragged him away . I then called the police who rescued him,“ he said. He added that Patel had sought for an excavator to remove vegetation overgrowth in the area.

Patel is seen defending himself stating that the process of the razing drive was an administrative one and the notices were issued by officials.He even said that he was merely a corporator of a ward and did not know what was happening at the city-level.

Some of those who were ousted from the slum near the pond said that they were given houses in a housing scheme for the urban poor, but it lacked basic amenities. Many believed that Patel had come to the spot to raze some shanties that were erected there by those who had returned from the housing scheme. Patel was beaten with pipes and sticks due to which his leg fractured and he was admitted at a private hospital in Panigate area.

Mayor Bharat Dangar said that the razing drive was conducted several months back and all 118 beneficiaries were given houses at a nearby site in Bapod itself. “No grievances were made to us so far. The extreme nature of the incident of tying Patel to a tree and beating him up mercilessly reflects that civic issues may not be the reason. The motives could even be political,“ said Dangar.

Deputy commissioner of police Sajjansinh Parmar said that around 70 persons including both men and women had been detained by the police. He those detained had rushed to the Bapod police station to make representations. An offence lodged at the Bapod police station states that Patel was beaten by a mob of around 100 persons. Eight accused have been named in the FIR.

http://epaperbeta.timesofindia.com/index.aspx?eid=31805&dt=20171004

Related posts

Gujarat is not a model state for the Dalits

No moustache, no sunglasses, no watching garba… next is what?In less than 10 days, at least six attacks have taken place on Dalits from across the State. In a fresh attack on Tuesday, a Dalit teen from Kalol was slashed with a blade. He is the cousin of the 24-yr-old who was thrashed for daring to sport a moustache

The spate of attacks on Dalits continues unabated in Gu jarat. In a fresh incident on Tuesday, a Dalit teenager from Limbodhara village in Kalol was left bloodied after being slashed with a blade while returning from school. Victim Digant Maheria, 17, was returning home after taking an exam when he was attacked by two unidenti MIRR AGAI fied men. The attackers stopped him on the way and told him HATE C that they had been paid to kill him before slashing his back with a blade.The boy is the cousin of 24-year-old Dalit Piyush Parmar who was beaten up on September 25 by the Darbars from his village for daring to sport a moustache. On that day, too, Digant, who was accompanying his cousin, was assaulted.

Tuesday’s incident took place around 4 pm. The bike borne men, with their faces covOR ered, came up to Digant. While NST one of them held him, the other slashed his back.RIME They also told him that they had been paid to kill him. Shocked, the teen fell unconscious. “He was bleeding when his friends got him home. We immediately called 108 and rushed him to Gandhinagar Civil Hospital. He has received 13 stitches. I do not know when this hatred will end,“ said his mother Chandrika Maheria. The family is furious and want the culprits to be caught and put behind bars without any delay.

“Just 10 days ago, they attacked Piyush (Digant’s cousin) and now they have gone after my brother. The three Darbars against whom a complaint was registered under atrocities act are out on bail. They were granted bail by Kalol court on Tuesday itself when my brother was attacked. We are scared for our lives,“ said victim’s sister Kajal, 18. This is the third attack on Dalits in Limbodhara village in less than two weeks. On September 25, Piyush was beaten up by three Darbars when he along with Digant was returning home after watching garba. The trio hurled casteist slurs at them before thrashing Piyush repeatedly. Kalol police had then lodged a complaint under the atrocities act against the trio from the same village, identified as Mayursinh Vaghela, Rahul Vikramsinh Serathia and Ajitsinh Vaghela. The accused were granted bail by Kalol court on Tuesday. “These anti-social elements harass the Dalits in the village for sporting a moustache and beard and wearing sunglasses. This has been going on for years now,“ said Bharat Parmar, the victim’s lawyer.

On September 29, Krunal Maheria, a Dalit law student from the same village was attacked for daring to sport a moustache. Accused in this case, Bharatsinh Vaghela, is the uncle of one of the accused in the attack on Piyush. Maheria was visiting his friend when Vaghela and others intercepted him and began abusing him verbally.Vaghela allegedly told Maheria that he could not become a Rajput by simply sporting a moustache. When the victim ignored him, he beat him up with a stick. Maheria returned home on Sunday after he was discharged from Gandhinagar Civil Hospital while Vaghela was released on bail by a Kalol court on Tuesday.

In the past 10 days, at least six attacks have taken place on Dalits across the State. The Dalits of Limbodhara village are planning to hold a protest outside Vidhan Sabha on Wednesday.

On Sunday, a 21-year-old Dalit from Bhadraniya village of Anand was beaten to death after he defended his cousin who was being abused by the Patels for watching garba. The same day, in Ahmedabad, a Dalit boy from Ahmedabad was thrashed by the family of a girl he was in love with.

On Saturday, Khema Parmar, a Dalit from Patan, lodged a complaint stating that he and three of his family had been thrashed by some members of the Patel community on the last day of Navratri in Ganget village.

Parmar said his attackers were angered by the presence of a few Dalit women at a village garba event, two days earlier.

 http://epaperbeta.timesofindia.com/index.aspx?eid=31819&dt=20171004

Related posts

MP police force farmers to strip, sit in underwear in station after protest #WTFnews

Local Congress leaders who backed the agitation say they will approach the human rights commission

Anupam Pateriya
Hindustan Times, Bhopal/Sagar
Farmers who were made to take off their clothes, at a police station in Tikamgarh.
Farmers who were made to take off their clothes, at a police station in Tikamgarh.(HT photo)

Police in a Madhya Pradesh town allegedly rounded up a group of farmers and forced them to disrobe after a protest demonstration, according to leaders of the Congress backing the agitation, who have decided to approach the country’s human rights watchdog.

Dozens of farmers gathered in front of the collectorate in Bundelkhand’s Tikamgarh on Tuesday afternoon to present a list of demands to the district administration. The protest turned aggressive, prompting police to use teargas, water cannons and sticks on the people to disperse them.

Bundelkhand is one of the most distressed farm regions in Madhya Pradesh, which saw violent protests in June over the issue of loan waivers. Five farmers were killed in police firing at the time.

Local Congress leader Yadvendra Singh said the protesters became angry after the district collector did not meet them.

“Due to this protesters started losing their cool. The police used force and between 25 to 30 farmers were injured. When I reached home, I received information that around 30-40 farmers have been detained by police at Dehat police station. I went there and found they had been beaten up. They were made to sit just in their underwear,” Singh said.

“ It is a clear violation of human rights and I will file a complaint with video and photos to NHRC and State Human Rights Commission. Tomorrow we have called for Tikamgarh bandh on this issue”, he said on Tuesday.

The protest was led by leader of opposition in the state assembly Ajay Singh.

Tikamgarh superintendent of police Kumar Prateek told HT that force was used after the crowd started throwing rocks. He said eight cops and one protester were injured in the scuffle.

He said he was unaware of the protesters being made to strip and said police were only interrogating the detainees.

Photographs provided to HT showed the men inside the police station only in their underwear.

They were freed after Yadvendra Singh reached the police station.

Falling yield, mounting debt and increasingly costly raw materials are seen as factors pushing farmers in several parts of the country to commit suicide.

Farmers in Madhya Pradesh have demanded the government make arrangements to procure crops on time or intervened to ensure a reasonable price.

Between February 2016 and mid-February 2017, 1,982 farmers and farm labourers reportedly committed suicide, which was one-fifth of the total suicides in the state. In the last 16 years, 21,000 farmers have taken their lives.

http://www.hindustantimes.com/india-news/mp-police-force-farmers-to-strip-sit-in-underwear-in-station-after-protest/

Related posts

Why I will not be celebrating Diwali this year: something broke when I heard of the attack on Junaid

As a child, the two most important events in my calendar were my birthday and Diwali.

Weeks before Diwali my mother would go to the Blind School fair and buy candles. My sister and i would both get new clothes for each of our birthdays and for Diwali. I recall how we hovered over our mother as she mapped out the cloth on a newspaper, cut and stitched it on her Singer machine.

For us, what mattered most on Diwali was not the crackers and the evening lights, but the mornings. One would have to wake up at 4am, and have an oil bath. My mother would arrange our new clothes with a lamp, rice and a coin on a silver tray. We would scramble to find textbooks to place on the tray for the Saraswati puja.

By dawn, however, we would all be bathed and ready. Then, as on all Sundays (also the weekly hair wash day), we would breakfast on dosas with MS Subalakshmi’s Bhaja Govindam and Vishnu Sahsranam playing in the background.

A round of visits followed. Since neither of my parents are originally from Delhi, there were few family members around. But my father’s uncle, K Swaminathan, lived in Naoroji Nagar, from where he edited the collected works of Mahatma Gandhi.

He and his wife, Vishala Patti, were the first stop, and we always got a banana each as we left. And then there were visits to various Tamil colleagues of my father’s, whose sons and daughters were much older, or at any rate, always much better read than us. Completely intimidated, we would come home with relief to our Diwali lunch, which was usually pooran poli and srikhand or masale bhat – the only indication that we were actually half Marathi.

In the evening, my mother would do a simple Lakshmi puja and make little feet of rice flour which showed Lakshmi heading straight into our house. Like most girls of our time we disliked noisy bombs, held phuljadis with care, and exclaimed at all the anars and chakras blossoming around us. But most of all we loved the snakes which coiled out of a little black pill.

As i grew older and was left to my own devices, pre-dawn awakenings gave way to holiday sleep-ins. With no children to teach ritual to, i lapsed completely. My mother’s dainty Lakshmi feet have become in my clumsy hands manifestations of a yeti arrival. It’s been decades since i ignited crackers. But my husband and i still like lighting our house, and Diwali is still a special day in my calendar, despite the noise, despite the spiking air pollution – a day of visiting parents and eating too much.

This year, when i heard of the attack on Junaid in a suburban train, something broke. Here were young boys, on their way back from shopping for new clothes for Eid. What they were doing was what every child in this country does, look forward with excitement to an upcoming festival.

How can i be happy at Diwali, when Junaid’s family – and that of many others who have suffered the corrosive hate of a communal attack – have not been able to celebrate their Eid? When some people take pleasure in the death of a Gauri Lankesh, how does one have the heart to celebrate anything at all? The small black snakes of my childhood have become Kaliyas, but there is no Krishna in sight to subdue them.

I don’t know which prescient educator prescribed these texts, but the two stories that have stayed with me from school are Premchand’s Idgah and Tagore’s Kabuliwalah. For years, i could not narrate these stories to others without crying. In both, there are characters whose festivals (Eid and a daughter’s wedding) were made happier through the happiness of others. If our sense of our selves expands when we share our happiness, it also expands when we share the sadness of others.

For me it is more important to be human than merely to be Hindu. This year, my house will be dark on Diwali, but at least my heart will be lighter

https://blogs.timesofindia.indiatimes.com/toi-edit-page/why-i-will-not-be-celebrating-diwali-this-year-something-broke-when-i-heard-of-the-attack-on-junaid/

Related posts

Sangh Parivar’s view of nationhood based on Faith and Fear

Sangh Parivar’s view of nationhood, citizenship and entitlements is based on narrow definitions of faith, and the purveying of fear.

Mohan Bhagwat, RSS, Rohingya, Rohingya muslims, Hindus from Myanmar, Rohingya muslims in india, Vishwa Hindu Parishad, VHP, RSS, RSS chief Golwalkar, Hindu Mahasabha, Muslim League, Narendra Dabholkar, Narendra Dabholkar murder, Govind Pansare, Govind Pansare murder, MM Kalburgi, Kalburgi murder, Gauri Lankesh, Gauri Lankesh murder, mohan bhagwat, indian nationalism, nationalism, indian express, express column

It’s a worldview that is at odds with the modernity and republicanism crafted in the Constitution. A fundamental belief, indoctrinated through skewed “history” lessons in the shakha, that religion and faith systems draw the faultlines of entitlement, rights and citizenship. It governs the officialdom today, and tells us, quite unashamedly, that the Rohingya (never mind that they are poor and distraught) are a security threat simply because they are Muslim. The Chakmas are not, the Hindus from Myanmar are not, but the Rohingya are a threat because of their faith.

Who is Indian? A draft legislation proposed by this regime says that only non-Muslims — Hindus, of course, and “Sikhs, Buddhists, Jains, Parsis and Christians from Afghanistan, Bangladesh and Pakistan… shall not be treated as illegal migrants”. The proposed law signals the institutionalisation of discriminatory citizenship. Back in 1991, this writer, then with Business India, was gifted a “map of Ahmedabad” by a then far more tentative Vishwa Hindu Parishad. The VHP was born in 1964 when the then RSS chief, M.S. Golwalkar, met a select group of sanyasi heads of religious organisations in Mumbai with the aim of launching a new organisation to unite all Hindu religious sects and tribals under a single umbrella and a homogenised version of religion.

The VHP’s map of Ahmedabad had clearly defined zones — the green and the bhagwa/saffron. The old city was coded green (read Muslims). The message to its cadres was clear. Use any means, fair or foul, to limit the “Muslim” spread to the rest of Ahmedabad. One particularly bloody incident during the Rath Yatra violence in 1991, which I reported, haunts me. Two Gujarati woman shoved off a middle-aged Muslim professional from his second-floor home in Narangpura, seen as a posh “ours, not theirs”part of the go-getter city. He fell to a bloody death. This was only one among increasing instances of women engaging physically in acts of neighbourhood terror. The messaging was against integration, and for confining and segregating Muslims to ghettos. This pair of Gujarati behens were felicitated during the Navrati of 1991, revealing more about the militarised, exclusivist “Hinduism” of the RSS and the VHP.

B.S. Moonje’s Diary No 6-17, 1946, written en route to Islampur in Bihar, makes for fascinating, if chilling reading. This RSS ideologue, who after a visit to Benito Mussolini’s camps in 1931 started first the Rifle Association in Nagpur and then established Bhonsala Military Academy in Nashik and then Dehradun in 1936, was touring districts affected by pre-Partition riots. Sixty Muslims of Junair, Patna, had been converted to Hinduism “of their own accord” by some Arya Samajists. Moonje recounts, in almost gloating terms, the “power of the fear of death” among battered Muslims, signalling that — ideologically and organisationally — this was the way to go.

Addressing a meeting in Delhi, Moonje said: “I found the Moslems were so frightened from their experience in the Bihar disturbances that they came to me and said with folded hands, ‘Huzoor, Babuji, hum Hindu hokar rahengay…’ This was the first experience of its kind in my life. Fear of death is great. Concluding my speech, I said, this is how people are to be coverted to a new Religion of conscience and propaganda are of no use. They only cause waste of money with practically no result whatsoever (my emphasis).”

The fear of death after the use of targeted violence to achieve a political objective makes for an unbeatable combination. It has been nurtured since 1946, and evident in bouts of orchestrated and targeted violence. These have transformed into full-blown pogroms post Independence.

At the core of this instrumental use of a militarised form of faith is the transformation — through a climate and fear of violence and death — of India as articulated during the Independence movement and exemplified in the republic’s founding document, the Constitution. Theocracy, or religion-based nationhood, was unequivocally rejected by India’s Constituent Assembly. It was exclusivist outfits who were one in their worldview, the RSS (and Hindu Mahasabha) and the Muslim League, which successfully projected that Muslims could not be part of a composite nation with Hindus.

Today, this worldview that unashamedly articulates nationhood, citizenship and entitlements based on narrow definitions of faith, dominates the Indian Parliament and rules 12 states (another five in alliance). No wonder that people like Mohan Bhagwat now call for a paradigm shift away from India’s Constitution to one based on the “ethos of our society”. Is the ethos that the RSS speaks of the one that Moonje so accurately described after the blood-letting of 1946? An ethos of violence crafted around the fear of death?

For any dispensation in the 21st century, in a country of 1.3 billion people, a good 15 per cent of whom are Muslim, 2-3 per cent Christian, 27 per cent Dalit, a physical ethnic cleansing of those “not Hindu” may not be easy or practical. But periodic and brute lynchings by the brainwashed and armed cadres of these hydra organisations are useful to build such an ethos, based on the fear of death. As Moonje believed, the fear of death is the tool to keep Muslims in line and Christians sufficiently fearful. Top this with bullets, aimed at sane, courageous dissenting voices who question the very construct of the homogenised Hindu, and who assert — Narendra Dabholkar, Govind Pansare, M.M. Kalburgi, Gauri Lankesh — that our ethos has been one of resistance to any homogeneity, assertion of dissent and difference, the stranglehold on our freedoms is near complete.

Which ethos does Ambedkar belong to? The Sangh claims him as its own, but arguably, Ambedkar, with his sharp and biting articulations — for instance, Annihilation of Caste — alive, would also been a target of elimination.

Faith and fear

Related posts

Fact Finding Report- Gang Rape of Dalit minor in Rajasthan #Vaw

ैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट

दलित नाबालिग छात्रा का अपहरण कर किया सामूहिक दुष्कर्म

ग्राम गुन्दली, पुलिस थाना बगौर, जिला भीलवाडा, राजस्थान

 

पीडिता : कु. सोनिया उम्र 16 वर्ष,  पुत्री श्री खेमराज जाति बलाई,

निवासी ग्राम गुन्दली, पुलिस थाना बगौर, जिला भीलवाडा, राजस्थान

घटना की दिनांक: 26 सितम्बर,  2017, प्रात: 10 बजे

फैक्ट फाइंडिंग दिनांक: 29 सितम्बर,  2017

घटना का आपराधिक विवरण

  • FIR No. 116/17 दिनांक 27 सितम्बर, 2017  समय शाम 7.30 बजे
  • अंतर्गत धारा 363, 366,343,376डीIPC, धारा  3 (1) (w) SC/ST (PoA) एक्ट, धारा 5, 6 पोक्सो एवं धारा 83, 84 किशोर न्याय (बालकों की देखरेख और संरक्षण) अधिनियम 2015
  • घटना स्थल- स्कुल का रास्ता जहाँ से अपहरण किया तथा खेत जहाँ सामूहिक दुष्कर्म किया
  • थानाधिकारी-श्री दातार सिंह गौड़ CI पुलिस थाना बगौर, जिला भीलवाडा
  • जाँच अधिकारी-श्रीमति चंचल मिश्रा RPS, वृताधिकारी वृत मांडल, भीलवाडा

अत्याचारी:

कैलाश पुत्र मांगीलाल गुर्जर, (अविवाहित)

जगदीश पुत्र शम्भू गुर्जर व (विवाहित)

कन्हैया पुत्र कालू गुर्जर (विवाहित)

सभी निवासी गुन्दली पुलिस थाना बगौर, जिला भीलवाडा, राजस्थान

 

फैक्ट फाइंडिंग के उद्देश्य:

  • घटना की पृष्ठभूमि का पता लगाना
  • घटना में संलिप्त लोगों की मानसिकता का पता लगाना
  • पीड़ित की स्थिति का जायजा लेना
  • घटना के पश्चात की परिस्थितियों को जानना
  • पुलिस व प्रशासन की भूमिका का पता लगाना

 

फैक्ट फाइंडिंग टीम के सदस्य:

श्री गोपाल राम वर्मा, सचिव सामाजिक न्याय एवं विकास समिति,  राजस्थान

श्री भंवर मेघवंशी, प्रदेश उपाध्यक्ष एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, PUCL

श्रीमति तारा आहलुवालिया, सदस्य बल कल्याण समिति, भीलवाडा

श्री शंकर सिंह रावत, कार्यकर्ता मजदूर किसान शक्ति संगठन

श्रीमती नौरती बाई, कार्यकर्ता मजदूर किसान शक्ति संगठन

श्री कमल टांक, एस आर अभियान राजस्थान

श्री राकेश शर्मा, समन्वयक राजस्थान स्टेट रेस्पोंस ग्रुप

श्री मुकेश निर्वासित एस आर अभियान राजस्थान

 

पीड़ित के गाँव का विवरण

राजस्थान के जिला भीलवाडा के मांडल ब्लॉक के बगौर पुलिस थानान्तर्गत गाँव गुन्दली, भीलवाडा से बागौर मार्ग पर जिला मुख्यालय भीलवाडा से 25 किमी. पुलिस थाना बागौर से 15 किमी. तथा तहसील मुख्यालय मांडल से 25 किमी. की दूरी पर स्थित पंचायत मुख्यालय वाला बड़ा गाँव है. गाँव में उपस्वास्थ्य केंद्र व सरकारी उच्च माध्यमिक स्तर का विद्यालय भी है. गाँव में सबसे अधिक लगभग 500 परिवार आरोपियों की गुर्जर जाति के हैं, यहाँ भील जाति के 20 परिवार,  नाई जाति के 5 परिवार, ब्राह्मण जाति के 6 परिवार, कुम्हार जाति के 5 परिवार, सुथार जाति के 5 परिवार तथा पीड़ित की बलाई जाति के 10 परिवार हैं.

गाँव में गुर्जर जाति का बाहुल्य होने के कारण अन्य सभी जातियां इनसे डरती हैं. दलितों की सामाजिक व आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है. पूर्व में भी एक युवक ने भील जाति की 6 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म किया था वह अभी जेल में है.

 

पीड़ित परिवार की सूची-

क्र.सं. नाम पिता/पति का नाम उम्र पीड़ित से सम्बन्ध
1 कु. सोनिया श्री खेमराज 16 वर्ष स्वयं पीडिता
2 खेमराज श्री रामचंद्र 40 वर्ष पीडिता का पिता
3 श्रीमती कमला श्री खेमराज 37 वर्ष पीडिता की माँ
4 कु. हेमा श्री खेमराज 14 वर्ष पीडिता की छोटी बहिन
5 कु. गाणीया श्री खेमराज 12 वर्ष पीडिता की छोटी बहिन
6 कालू राम श्री खेमराज 10 वर्ष पीडिता का छोटा भाई
7 लक्ष्मी श्री खेमराज 8 वर्ष पीडिता की छोटी बहिन

 

जनप्रतिनिधियों की सूची-

क्र.सं. नाम पद जाति
2 श्री उम्मेद सिंह राजपूत सरपंच ग्राम पंचायत गुन्दली राजपूत (Gen.)
3 श्रीमती सरोज बैरवा प्रधान पंचायत समिति, जाट (SC)
4 श्री शम्भू सिंह हाडा जिला प्रमुख, राजपूत (SC)
5 श्री कालू लाल गुर्जर विधायक, जाट (OBC)
6 श्री सुभाष बहेडिया सांसद, माहेश्वरी (Gen.)

 

पुलिस व प्रशासनिक अधिकारीयों की सूची-

क्र.सं. नाम पद सम्पर्क
1 श्री दातार सिंह गौड़ CI थानाधिकारी बगौर 01486-232036,
2 श्रीमति चंचल मिश्र  RPS वृताधिकारी, maandal 01486-266641. 94614-77928
4 श्री प्रदीप मोहन शर्मा IPS पुलिस अधीक्षक, 01482232001, 9829071500
5 श्री मुक्तानंद अग्रवाल IAS जिला कलक्टर, 01482-232601, 94685-85123

 

पीड़ित द्वारा 27-9-17 को पुलिस अधीक्षक के माध्यम से दर्ज कराई गई रिपोर्ट

सेवा में श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय भीलवाडा राजस्थान, प्रार्थिया सोनिया पुत्री खेमराज बलाई आयु 16 वर्ष निवासी गुन्दली थाना बागोर जिला भीलवाडा राज. विषय: मुझ प्रार्थिया के साथ हुए सामूहिक बलात्कार के सम्बन्ध में मुक़दमा दर्ज करा, क़ानूनी कार्यवाही करने बाबत. प्रार्थिया की निबेदन है कि मैं प्रार्थिया जाति से बलाई होकर अनुसूचित जाति की होकर मेरी जन्म दिनांक 13/08/2001 होकर मैं 16 वर्षीया होकर नाबालिग हूँ व राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय गुन्दली की कक्षा 10 वीं की छात्र हूँ. कल दिनांक 26/09/2017 को सुबह मैं प्रार्थिया स्कुल गई थी लेकिन अचानक मेरी तबियत ख़राब हो जाने से मैं प्रार्थिया स्कुल से अध्यापक मुरली जी से छुट्टी मांगकर अपने घर गयी व वापस मेरी तबियत में सुधर होने पर करीब 10 बजे मैं अपने घर से वापस स्कुल जा रही थी व गाँव के बाहर पहुंची कि मुलजिमान कैलाश पुत्र मांगीलाल गुर्जर, जगदीश पुत्र श्री शम्भू गुर्जर, कन्हैया लाल पुत्र श्री कालू गुर्जर निवासियाँ गुन्दली एक मोटरसाइकिल लेकर आये व मिझे कहा कि यौम हमारी मोटरसाइकिल पर बैठ जाओ, हम तुम्हें स्कुल छोड़ देते हैं. इस पर मैंने कहा कि तुम पहले ही तीन बैठे हो, मैं स्कुल चली जाउंगी तो मुलजिम जगदीश व कहिया लाल मोटरसाइकिल से नीचे उतारे व जगदीश ने मेरा मुंह भींच लिया व कन्हैया लाल ने चाकू निकलकर मेरी गर्दन पर रख दिया व कहा कि तू चिल्लाई तो हम तुझे जान से मार संगे व जबरन मुझे डरा धमकाकर मोटरसाइकिल पर डालकर कैलाश गुर्जर खेत के पास स्थित बाड़े पर ले गए जहाँ पर मुलजिमान ने मुझ प्रार्थिया को काफी डराया धमकाया व अभियुक्त कैलाश ने मुझ प्रार्थिया को जबरन डरा धमाकाकर मेरी इच्छा के विरुद्ध मेरा साथ 2 बार खोता काम (बलात्कार) किया. मैंने विरोध किया तो मेरे साथ मारपीट की व थप्पड़ भी जड़ दिए व जगदीश व कन्हैया लाल ने मेरी निगरानी रखी व इसके पश्चात उक्त मुलजिमान मझे वहां से डरा धमकाकर किसी को बताने पर जान से मरने का भय बताकर मुझे डूगाडा का खेडा में पथवारी के पास छोड़ दिया. इस पर मेरे गाँव की भुआ शांता गुर्जर के घर गई व मैंने उनसे मोबाईल माँगा व मेरे पिता को फोन करने हेतु कहा, लेकिन शांता द्वारा मोबाईल नहीं होने की बात कही. इस पर मैं प्रार्थिया वहां से पैदल अपने गाँव जाने लगी कि पीछे से शांता द्वारा उक्त मुलजिमान को सूचना दे दी, जिससे उक्त मुलजिमान मोटरसाइकिल लेकर वापस आ गए व मुझे डूगडा का खेडा गाँव के पास से ही वापस जबरन डरा धमकाकर मुझे मोटरसाइकिल पर बिठाकर रस्ते में पानी के बोर के पास बने कमरे पर ले गए जहाँ पर डरा धमकाकर तीनों ने मुझ प्रार्थिया के साथ बारी-बारी से मेरी इच्छा के विरुद्ध खोता काम (बलात्कत) किया. मैंने विरोध किया तो मुझे जान से मारने की धमकी दी. इसके पश्चात रात्रि के करीब 11 बजे मुझे रास्ते में छोड़कर चले गए व धमकी दी कि यदि किसी प्रकार की कार्यवाही कराइ तो जान से मार देंगे. मुलजिमान द्वारा किये गए सामूहिक बलात्कार से मेरी हालत अभी भी ख़राब है. मैंने मेरे पिता को साडी बात बतायी व यह रिपोर्ट पेश कर रही हूँ. अत: श्रीमान से निवेदन है कि उक्त मुलजिमान के विरुद्ध मुक़दमा दर्ज करा क़ानूनी कार्यवाही करा, मुलजिमान को गिरफ्तार कराया जाने हेतु थाना बागोर के नाम आदेश प्रदान करावें. भीलवाडा दिनांक 27/09/17

 

———————————- कार्यवाही पुलिस ———————————————–

प्रमाणित किया जाता है की उक्त रिपोर्ट सुश्री सोनिया पुत्री श्री खेमराज बलाई उम्र 16 साल निवासी गुन्दली बागोर जिला भीलवाडा ने मय अपने पिता श्री खेमराज बलाई पुत्र श्री रामचंद्र बलाई उम्र 40 साल व माता श्रीमती कमला पत्नी खेमराज बलाई उम्र 35 साल निवासीयान गुन्दली थाना बागोर जिला भीलवाडा ने बमुकाम बाल कल्याण समिति भीलवाडा में पेश की.

मजमून रिपोर्ट पढ़कर सुनाई, सुन समझ सही माना मजमून रिपोर्ट से मामला अपराध धारा 363, 366,343,376डी भादस, 5, 6 पोक्सो एक्ट, 3 (1) (w) एससी एसटी एक्ट, एवं 83, 84 जेजे एक्ट का पाया जाता है. रिपोर्ट पर तफतीस का अधिकार श्रीमान सीओ साहब मांडल को होने से श्रीमती चंचल मिश्रा आरपीएस सीओ वृत मांडल के जिम्मे की जाती है. रिपोर्ट ले हमारा कानि. 1734 राजूलाल को ठाणे पर भेजकर मुक़दमा दर्ज कराया जाता है. एसडी सोनिया, खेमराज अ.नि. कमला देवी एस डी दातार सिंह थानाधिकारी बागौर दिनांक 27-9-17

कार्यवाही पुलिस थाना बगौर जिला भीलवाडा

दिनांक 27-9-17       समय 7.41 पीएम

प्रमाणित किया जाता है की उपरोक्त रिपोर्ट सुश्री सोनिया पुत्री श्री खेमराज की श्री दातार सिंह गौड़ एस आई एस एच ओ बगौर ने बाल कल्याण समिति भीलवाडा से कायमी हेतु कानि. 1734 के हमरा भिजवायी जिस पर मुक़दमा नं. 116/17 धारा 363, 366,343,376डी भादस, 5, 6 पोक्सो एक्ट, 3 (1) (w) एससी एसटी एक्ट, एवं 83, 84 जेजे एक्ट में दर्ज कर तफतीश श्रीमती चंचल मिश्रा आरपीएस सीओ वृत मांडल के जिम्मे की जाती है, जो मशरूफ तफतीश है. प्रतियाँ एफ आई आर जारी की जा रही है.

 

पीड़ितों व गवाहों के बयान

कु. सोनिया उम्र 16 वर्ष पुत्री श्री खेमराज जाति बलाई निवासी ग्राम गुन्दली पुलिस थाना बागोर तहसील मांडल जिला भीलवाडा, राजस्थान ( स्वयं पीडिता)

मेरा नाम सोनिया बलाई है मेरे मेरे पिताजी के मेरे आलावा एक बेटा कालू राम व  तीन बेटियां हेमा, गाणीया व लक्ष्मी हैं. मैं राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय गुन्दली में कक्षा 10 वीं में पढ़ती हूँ मेरा जन्म दिनांक 13-8-2001 है. मेरे भाई बहिन भी इसी स्कुल में पढ़ते हैं. मेरे माता-पिता खेती का कम करते हैं. हमारे घर के आस-पास गुर्जरों के घर है. मैं कक्षा 5 तक मेरे मामा के गाँव सुवाणा में मेरी मौसी सुगना के साथ पढी थी वह मेरे से एक कक्षा आगे थी, उसके बाद मैं गाँव आगे और मेरे भाई बहिनों के साथ स्कूल जाने लगी. मेरे माता-पिता खेती का काम करते हैं उसमें से ही हम भाई-बहिनों को पढ़ते हैं तथा घर चलते हैं.

घटना के दिन दिनांक 26-9-17 को हम सभी भाई बहिन 8 बजे ही स्कूल चले गए थे. 10 बजे के लगभग मेरी तबियत खराब हो गई थी मेरा पीरियड शुरू हो गया था तो मैं हमारे सामाजिक विज्ञानं पढ़ाने वाले अध्यापक श्री मुरली जी सर से छुट्टी लेकर घर आ गई उस समय मैंने स्कूल की ड्रेस पहन राखी थी. घर पर आकर मैं नहाई और उसके बाद वापिस कपडे बदलकर स्कूल जा रही थी उस समय मैंने काले रंग की लैगी तथा बैंगनी व काले रंग का कुरता पहन रखा था तथा उसी के मैचिंग की चुन्नी लगा राखी थी. जैसे ही मैं घर से निकली तो थोड़ी दूर चलने पर मेरे पीछे से एक मोटरसाइकिल आकर रुकी जिसे हमारे गी गाँव का मांगीलाल का लड़का कैलाश गुर्जर उम्र 20 वर्ष जो की अविवाहित है चला रहा था और उस पर पीछे शम्भू गुर्जर का लड़का जगदीश जो कि शादीशुदा है तथा कालू गुर्जर का लड़का कन्हैया यह भी शादीशुदा है और उसकी पत्नी गर्भवती है, बैठे थे. कैलाश गुर्जर ने कहा कि हम तुझे स्कूल छोड़ देते हैं हमारे साथ बैठ जा. तो मैंने मन कर दिया और कहा कि मैं पैदल ही चली जाउंगी. इतने में जगदीश और कन्हैया निचे उतारे और मुझे जबरदस्ती से मोटरसाइकिल पर पटक लिया कैलाश के पीछे मुझे बैठा लिया और दोनों पीछे बैठ गए. उन्होंने मुझे स्कूल के रास्ते के आलावा ले गए और सुनसान जगह पर मोटर साइकिल रोक दी तथा कैलाश मुझे गोदी में उठाकर खेत के अन्दर ले गया वहां मुझे पटक दिया. खेत के बहार जगदीश व कन्हैया लाल ने निगरानी रखी. कैलाश ने      मेरे कपडे जबरन उतर दिए मैंने विरोध किया हाथ-पैर भी मारे जिससे मेरे हाथ पैरों में खरोंचें भी आई. कैलाश ने भी कपडे उतार लिए वह मेरे ऊपर पड़ गया जबरदस्ती मेरे साथ दुष्कर्म किया, मैं रोती रही लेकिन उसे दया नहीं आई. उसके बाद वहां से मुझे पकड़कर वापिस सड़क पर ले आया जहाँ जगदीश व कन्हैया लाल ने निगरानी के लिए खड़े थे.

तीनों आरोपियों ने मुझे फिर से मोटरसाइकिल पर बैठा लिया और डूगाडा का खेडा गाँव में पथवारी के पास छोड़ दिया, इस पर हमारे गाँव की भुआ शांता गुर्जर रहती है उसके बारे में मुझे मालूम था इसलिए मैंने एक लड़की सीता गुर्जर जो कि पहले मेरे साथ पढ़ती थी से उसके घर के बारे में पूछा तो उसने उसका घर बता दिया. मैं उसके घर गई और मैंने उनसे मोबाईल माँगा व मेरे पिता को फोन करने हेतु कहालेकिन शांत भुआ द्वारा मोबाईल नहीं होने की बात कही. इस पर मैं वहां से पैदल ही हमारे  गाँव जाने लगी लेकिन पीछे से तीनों आरोपी मोटरसाइकिल लेकर वापस आ गए व मुझे डूगडा का खेडा गाँव के पास से ही वापस जबरन डरा धमकाकर मोटरसाइकिल पर बिठाकर हमारे गाँव के रास्ते में पानी के बोर के पास बने कमरे पर ले गए जहाँ पर तीनों ने डराया धमकाया कि इस घटना के बारे में किसी को मत बताना. मुझे जान से मारने की धमकी दी कि किसी को बताया तो जान से मार देंगे. इसके पश्चात रात्रि के करीब 11 बजे मुझे रास्ते में ही छोड़कर चले गए. मैं बेसुध हो गई  मुझे कोई पता नहीं कि मैं कितने बजे घर पर पहुंची लेकिन रात बहुत हो गई थी.

मुझे पता चला कि मेरे बड़े पापा एकलिंग जी ने पुलिस को फोन पर सूचना दी परन्तु पुलिस ने उस समय कोई कार्यवाही नहीं की.

 

दूसरे दिन दिनांक 27-9-17 को सुबह मैंने मम्मी को मेरे साथ हुई घटना के बारे में बताया मेरे पापा भी उस समय वहीँ थे. इसके बाद मामाजी के यहाँ सूचना दी उधर से मामाजी आ गए और हम भी गाँव से भीलवाडा चले गए वहां SP के पास गए भीलवाडा में ही मेरा मेडिकल भी हुआ. वहां रिपोर्ट दी, बाद में FIR लिखवाने बागोर थाने पर आये. मेरे 164 के बयान हो चुके हैं मेरे साथ जो घटना हुई उसी के बारे मैं मैंने कोर्ट में भी बताया. लेकिन मैं अब यहाँ नहीं रहूंगी न ही पढूंगी. मेरे पापा मम्मी की हालत भी खराब है वे मेरे कारण बहुत दुखी हैं.

 

कु. सुगना बलाई उम्र 17 वर्ष कक्षा 11 में अध्ययनरत पुत्री श्री भैंरू लाल बलाई निवासी ग्राम सुवाणा पुलिस थाना सदर भीलवाडा (पीडिता की मौसी)

मैं पीडिता की मौसी हूँ और सोनिया पहले कक्षा 5 तक हमारे गाँव में मेरे साथ ही पढ़ी है और मेरी अच्छी दोस्त भी है. इनके परिवार में यह सबसे बड़ी है बाकि भाई बहिन इससे छोटे हैं. घटना के बारे में मुझे 27-9-17 को सुबह पता चला जब मेंरे जीजू खेमराज का गोपाल भैय्या के पास फोन आया. उस समय में भी घर थी और फोन पर सूचना मिल गई थी. फिर भैय्या भीलवाडा आये तो मैं भी उनके साथ थी बाद में ये कलेक्ट्री चले गए, वहां SP के यहाँ रिपोर्ट दी. इस दिन सोनिया को हम हमारे गाँव सुवाणा ले आये लेकिन दिनांक 28-9-17 को पुन: बागोर थाने पर बयान देने गए अब मैं इसके साथ ही रह रही हूँ. इसको काफी समझाया है लेकिन इसने पिछले तीन दिन से खाना भी नहीं खाया है. यह बहुत सदमे में है, यदि मैं नहीं होती तो यह खत्म हो जाती. मेरी जीजी और जीजू का भी रो-रोकर बुरा हल है हम लोगों ने काफी समझाया है. पूरा गाँव गुर्जरों का है और बलाई जाति के लोग इनके सामने बोलते भी नहीं हैं, इसके अलावा इनका घर भी गुर्जरों के बीच में है. सोनिया कह रही है की अब यह यहाँ नहीं रहेगी तो कोई बात नहीं इसे हम हमारे गाँव ले जायेंगे और वहीँ पढ़ लेगी. अभी तो पुलिस लगी हुई है, दिनांक 28-9-17 को शाम को ही पुलिस के दो लोग आ गए थे तब से यहीं हैं रात को भी यहीं थे. पुलिस ने तीनो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है इसका पता हमें अख़बार से चला है.

 

कमला देवी पत्नी श्री खेमराज बलाई  (पीडिता की माँ)

मेरी बेटी सोनिया घटना के दिन दिनांक 26-9-17 को रोज की तरह सुबह स्कूल गयी थी और मैं खेत पर काम करने गयी थी. सोनिया स्कुल से लंच में  खाना खाने घर आई थी फिर खाना खाके वापस स्कुल चली गयी थी. छुट्टी के वक्त मेरी छोटी बेटी हेमा ने टीचर से पूछा की सोनिया कहाँ है तो उन्होंने कहा पता नहीं, कही गयी होगी कल बता देंगे| फिर पता नहीं चला तो सब लोग ढूंढने लगे, शाम को पता चला की डूगाड़ा (dungada) गाव में हे तो हम गए तो वही गाव के लोगो ने कहा की यहाँ से तो कोई कही उठा के लेके गए लेकिन ये नहीं बताया की कौन लेके गए, फिर हम बागोर गए और दो पुलिस वालों से थाणे के बाहर मिले लेकिन उन्होंने सुबह आने की कहकर वापस भेज दिया. फिर लड़की रात को 12 बजे घर आई, जब घर आई कपडे ठीक नहीं थे, रात को कुछ नहीं बता पाई और बेहोश हो गयी तो हम रात को ही लड़की को लेकर सुवाणा चले गए, फिर सुबह 10-11 बजे सोनिया ने बताया की इस तरह स्कुल जाते वक्त तीन लड़कों ने उठा लिया और पहले एक ने गन्दा काम किया और फिर वापस जब लेके गए तब तीनों ने बुरा काम किया. इसके बाद हम उसको लेकर भीलवाड़ा आये और रिपोर्ट दर्ज करवाई. फिर जब मोका मुआयना करने डूगाड़ा (dungada) लेकर गए तो वहा गाव के लोगो ने उल्टा हमको कहा की तुम्हारी लड़की को सही रखना चाहिए था| उसके बाद हम वापस अपने घर लौट आये लेकिन अब सभी बच्चे डरे हुए है कि  कही हमको गाँव के लोग मार देंगे |

 

राजू जी बलाई (पीडिता का मामा) निवासी ग्राम सुवाणा पुलिस थाना सदर, भीलवाडा

पीडिता सोनिया के पिता खेमराज बलाई मेरे जीजा हैं. मुझे 26-9-17 को सुबह खेमाराम जी ने फ़ोन किया और बताया की लड़की स्कुल गयी लेकिन वापस नहीं आई| फिर हम पहुंचे और  लड़की को ढूंढने लगे, रात के लगभग 9 बजे तक ढूंढते रहे लेकिन कुछ पता नहीं चला| फिर बागोर थाने में फ़ोन किया तो थाने वालों ने कहा करेडा चोराहा (बागोर) पर आओ यही बात करते हैं. वहां अम्बालाल हैडकोंस्टेबल और जाबिर खान ASI ने कहा कि सही से पता लगाओ कि गुम हुयी हे या नहीं और उन्होंने हमसे हमारे आधार कार्ड मांगे तथा कहा अब सुबह आना, फिर हम गाँव लौट आये. रात को 12 बजे लड़की अकेले घर पर लौटी लेकिन रात में हालत ठीक नहीं थी तो उसने कुछ भी नहीं बताया और आते ही बेहोश हो गयी.  दुसरे दिन सुबह बच्ची ने घटना के बारे में बताया और 3 लडको के नाम बताये, कैलाश गुर्जर पुत्र मांगी लाल, जगदीश गुर्जर पुत्र शम्भू, कन्हैया गुर्जर पुत्र कालू लाल. फिर हम भीलवाडा पहुचे और 27 सितम्बर 17 को बाल कल्याण समिति पहुचे और अध्यक्ष सुमन त्रिवेदी के पास गए. उन्होंने वहां दोपहर 3 बजे बयान लिये, उसी दिन शाम को महात्मा गाँधी राजकीय हॉस्पिटल में मेडिकल हुआ और FIR दर्ज हुई.

एकलिंग सालवी- (पीडिता के पिता खेमराज के ममेरे भाई) शिक्षक  

घटना के बाद अपराधीयों के 10-15 रिश्तेदार लोग मेरे घर आये और  मुझसे कहा 3 बच्चे जेल चले जायेंगे और मामले को सेटल करने की कहा,  मेरी पत्नी और माँ के पास भी गए और उनको भी कहा. लेकिन मैंने उनसे कहा कि मेरा खेमराज के परिवार से आजकल सम्बन्ध ठीक नहीं हैं, मैं क्या बात कर सकता हूँ, फिर वो वापस चले गए.

 

पुलिस-प्रशासन की भूमिका

पुलिस: फैक्ट फाइंडिंग टीम पुलिस थाना बागोर गई जहाँ जाँच अधिकारी श्रीमती चंचल मिश्रा से मुलाकात की उसने बताया कि हमने कोशिश की कि आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार कर ले यदि हम एसा नहीं करते तो शायद आरोपी भाग भी सकते थे. पीड़ित का मेडिकल भी करवा दिया है तथा आरोपियों को पकड़ लिया है. पीडिता के कोर्ट में 164 Cr.PC के बयान भी करवा दिए हैं. और कोई कमी हो तो बताएं. इस पर सामाजिक न्याय और विकास समिति के सचिव गोपाल राम वर्मा ने कहा कि –

  • अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजाति(अत्याचार निवारण) अधिनियम की धारा 3 (2)(V) लगनी चाहिए
  • अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजाति(अत्याचार निवारण) अधिनियम के नियम 12 (4) के अनुसार मेडिकल रिपोर्ट के बाद मिलाने वाली मुआवजा राशी मिलाने का प्रावधान है यदि पुलिस तुरंत केस बनाकर भेज दे तो यह सहायता राशी पीडिता को मिला जाएगी

जाँच अधिकारी ने इन मांगों को स्वीकार किया और आश्वासन दिया कि 3 (2)(V) जाँच में लग जाएगी और केस भी जल्दी ही तैयार कर भेज दिया जायेगा. हमने स्कूल के अध्यापक को भी बुलाया है लड़की स्कूल खुलते ही जाये कोई दिक्कत नहीं होगी.

टीम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री गोपाल सिंह मेवाडा से भी मिली जहाँ टीम के सदस्य श्री भंवर मेघवंशी ने परिवार की सुरक्षा की मांग की तथा गुर्जर समुदाय द्वारा सामाजिक पंचायत कर पीड़ित परिवार पर दबाव बनाने की आशाका भी व्यक्त की जिस पर मेवाडा ने कहा की ऐसा नहीं होगा यदि ऐसी सूचना मिलाती है तो वहां क्षेत्रीय पुलिस प्रशासन को अवगत करा दिया जाये जिससे समय रहते कार्यवाही की जा सकेगी.

  

क़ानूनी प्रावधान जिनका उलंघन हुआ है

  • जो कोई, भारत में से या विधिपूर्ण संरक्षता में से किसी व्यक्ति का व्यपहरण करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सातवर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दण्डित होगा. (धारा 363  आई.पी.सी.)
  • जो कोई किसी स्त्री का व्यपहरण या अपहरण उसकी इच्छा के विरुद्ध किसी व्यक्ति से विवाह करने के लिए उस स्त्री को विवश करने के आशय से या वह विवश की जाएगी, यह सम्भाव्य जानते हुए अथवा अयुक्त सम्भोग करने के लिए उस स्त्री को विवश या विलुब्ध करने के लिए या वह स्त्री आयुक्त सम्भोग करने के लिए विवश या विलुब्ध की जाएगी, यह सम्भाव्य जानते हुए करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि 10वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दण्डित होगा और जो कोई किसी स्त्री को किसी अन्य व्यक्ति से आयुक्त सम्भोग करने के लिए विवश या विलुब्ध करने के आशय से या वह विवश या विलुब्ध की जाएगी, यह सम्भाव्य जानते हुए इस संहिता यथापरिभाषित आपराधिक अभित्रास द्वारा अथवा प्राधिकार के दुरुपयोग या विवश करने के अन्य साधन द्वारा उस स्त्री को किसी स्थान से जाने को उत्प्रेरित करेगा, वह भी पूर्वोक्त प्रकार से दण्डित किया जायेगा. (धारा 366 आई.पी.सी.)
  • जो कोई किसी व्यक्ति का सदोष परिरोध करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि एकवर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से जो एक हजार रूपये तक हो सकेगा, या दोनों से भी दण्डित होगा. (धारा 342 आई.पी.सी.)
  • 16 दिसंबर 2012 को निर्भया कांड के बाद किसी व्यक्ति द्वारा दुष्प्रेरण के फलस्वरूप की गई आत्म हत्या की यथोचित धारा 306 डी में सामूहिक बलात्कार सम्बन्धी धारा में कहा गया है कि “जहाँ किसी स्त्री से एक या एक से अधिक व्यक्तियों द्वारा एक समूह गठित करके या सामान्य आशय को अग्रसर करने में कार्य करते हुए बलात्संग किया जाता है. वहां उन व्यक्तियों में से प्रत्येक के बारे में यह समझा जायेगा की उसने बलात्संग का अपराध किया है और वह ऐसी अवधि के कठोर कारावास से, जिसकी अवधि 20 वर्ष से कम की नहीं होगी, किन्तु जो आजीवन कारावास तक की हो सकेगी जिससे उस व्यक्ति के शेष प्राकृत जीवनका के लिए कारावास अभिप्रेत होगा, दंडित किया जायेगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा.” (धारा 376 डीआई.पी.सी.)
  • भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) के अधीन दस वर्ष या उससे अधिक के कारावास से दण्डनीय कोई अपराध (किसी व्यक्ति या संपत्ति के विरुद्ध यह जानते हुए करेगा कि ऐसा व्यक्ति अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजाति का सदस्य है या ऐसी सम्पत्ति ऐसे सदस्य की है) वह आजीवन कारावास से, तथा जुर्माने से दण्डनीय होगा. (धारा 3 (2)(V) एस.सी./एस.टी. एक्ट.)
  • अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजातिकी स्त्री को सशय, यह जानते हुए स्पर्श करेगा कि वह अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजाति से सम्बन्धित है, जबकि स्पर्श करने का ऐसा कार्य, लैंगिक प्रकृति का है और प्राप्तिकर्ता की सहमती के बिना है, वह 5 वर्ष तक के कारावास से, तथा जुर्माने से दण्डनीय होगा. (धारा 3 (1)(w) एस.सी./एस.टी. एक्ट.)
  • कोई व्यस्क या वयस्कों का समूह बालकों का व्यष्टिक रूप से या किसी गैंग के रूप में अवैध कार्यकलापों के लिए उपयोग करता है वह एसी अवधि के कठोर कारावास का दाई होगा जो 7 वर्ष तक की हो सकेगी.और 5 लाख रुपये तक के जुर्माने का भी दाई होगा. (धारा 83 किशोर न्याय अधिनियम 2015)
  • जो कोई गुरुतर प्रवेशन लैंगिक हमला करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि 10वर्ष से कम की नहीं होगी, किन्तु आजीवन कारावास तक की हो सकेगी दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दण्डित होगा. (धारा 5 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012)

पीड़ित परिवार, स्वतंत्र गवाहों, पुलिस के बयान व दस्तावेजों के आधार पर फैक्ट फाइंडिंग टीम निम्नलिखित निष्कर्षों पर पंहुंची है –

यह है कि अत्याचारी को यह भलीभांति मालूम था कि मृतका अनुसूचित जाति की गरीब परिवार से है और कक्षा 10 की नाबालिग छात्रा है. तथा अकेली जा रही है, इसी का लाभ उठाते हुए छात्रा का जबरदस्ती अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म किया.

यह है कि आरोपियों पूर्व नियोजित षड्यंत्र था जिसके तहत ही छात्रा के साथ दुष्कर्म करने मन बना लिया था, इसीलिए मोटरसाइकिल लेकर घर से ही पीडिता का पीछ किया और घटना को अंजाम दिया.

यह है कि दलित बालिका ने बचाव का काफी प्रयास किया जिसके कारण उसके हाथ व पैरों में खरोंचें भी आई है.

यह है कि पीडिता काफी घबराई हुई है, आरोपियों ने घटना के बाद उसे रस्ते में ही छोड दिया, रात के 11 से भटकते हुए रात के 1 बजे बदहवास हालत में घर पहुंची, इस बिच घर वालों का रो-रोकर बुरा हल था. घटना के तीन दिन बाद तक भी खाना नहीं खाया है, घटना से पूरा परिवार सदमे में है.

यह है कि पुलिस थाना बागोर को पीडिता के अपहरण की सूचना दी गई लेकिन पुलिस ने टालने के लिए कह दिया कि कहीं ढूढलें, नहीं मिले तो बाद में रिपोर्ट दर्ज करलेंगे. प्रारम्भिक तौर पर पुलिस की संवेदनहीनता नजर आई.

यह है कि बाल कल्याण समिति भीलवाडा के हस्तक्षेप से पुलिस अधीक्षक के माध्यम से पीडिता की रिपोर्ट दर्ज हो पाई और समय पर मेडिकल सम्भव हुआ.

यह है कि पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, पुलिस यदि आरोपियों की गित्फ्तरी में विलम्ब कराती तो शायद वे भागने में सफल हो जाते.

यह है कि आरोपियों के गुर्जर समाज का गाँव में बाहुल्य है और पीड़ित की बलाई जाति के परिवार बहुत कम हैं, जिससे पीड़ित परिवार डरा हुआ है.

यह है कि भीलवाडा जिले में अनुसूचित जाति के लोगों के अत्याचार की घटनाएँ बढ़ी हैं तो दूसरी तरफ दलित संगठन भी मजबूत हुए हैं और अत्याचारियों के खिलाफ कारगर कार्यवाही करवाने के लिए एकजुट हैं तथा पुलिस प्रशासन पर दबाव बनाकर न्याय दिलवाने का काम कर रहे हैं.

 

सिफारिशें: (लघुकालीन)

  • दलित नाबालिग छात्रा के साथ हुई दुष्कर्म की घटना में पीडितपरिवार को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार) निवारण अधिनियम के नियम 1995 (यथा संशोधित 14 अप्रेल 2016) के नियम 12 (4) के अनुसार मेडिकल जाँच के पश्चात 5 लाख का 50 प्रतिशत, 2 लाख 50 हजार रूपये आर्थिक सहायता राशि तुरंत प्रदान की जाए.
  • पीड़ित परिवार को अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के नियम 15 के अनुसारआकस्मिकता योजना के तहत मिलाने वाली राहत प्रशासन तुरंत उपलब्ध करवाये.
  • पीड़ित परिवार को अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के नियम 11 के अनुसार प्रकरण की सुनवाई के लिए पुलिस व कोर्ट में बुलवाने पर उन्हें यात्रा व दैनिक भत्ता प्रदान किया जाये.
  • प्रशासन द्वारा पीड़ित परिवार को आवश्यकता पड़ने पर नि:शुल्क विधिक सहायता प्रदान करने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये.
  • यदि पीडिता चाहे तो उसके पढ़ने की व्यवस्था किसी छात्रावास में करवाई जाये तथा आगे की पूरी पढाई नि:शुल्क करवाने की व्यवस्था सरकारी खर्चे पर करवाई जाये.

सिफारिशें: (दीर्घकालीन)

  • भीलवाडा जिले में लगातार दलित अत्याचार की घटनाये घटित हो रही हैं, इसलिए सरकार भीलवाडा जिले को अत्याचारपरक क्षेत्र घोषित किया जाये.
  • सरकार भीलवाडा जिले में दलित जागरूकता के कार्यक्रम आयोजित करे और उसमें युवाओं को जोड़ने का प्रयास करे.
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग दलितों के कल्याण के लिए संचालित योजनाओं की जानकारी प्रदान करे जिससे वे आर्थिक रूप से सक्षम हो सकें.

 

 

(गोपाल राम वर्मा)              (भंवर मेघवंशी)            (तारा आहलुवालिया)

सचिव                राष्टीय कार्यकारिणी सदस्य            सदस्य

एस.एन.वी.एस.                  PUCL                 CWC, भीलवाडा

मो. 9414427200             मो. 9928136988            मो. 9461322141

 

 

(शंकर सिंह रावत )              (नौरती बाई)                 (कमल टांक)

कार्यकर्त्ता                     कार्यकर्त्ता                    कार्यकर्त्ता

MKSS                      MKSS                  एस.आर अभियान

 

 

 

(राकेश शर्मा)                (मुकेश निर्वासित)

राजस्थान स्टेट रेस्पोंस ग्रुप           एस.आर अभियान

Related posts