Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

Campaign – Mere Ghar Aa Ke To Dekho – मेरे घर आ के तो देखो

मेरे घर आ के तो देखो

जिंदिगियों को जोड़ने की कोशिश

जुलाई 20-22, 2017

Come visit my home, be my guest

 

Visit My Home, Be My Guest   is a simple campaign directed to change the preconceived notions and opinions that we hold about people of other community, class, caste, religion, sexual orientation, language, region etc. It is easy to spread hatred in the absence of direct contact with each other. The objective is simple and direct, people must go to each other’s house eat and drink tea, just even water and break the socially constructed barriers.

We are well aware that this campaign cannot transform the society into a just and equal society . This is only an experiment, a small beginning and a hope that especially the new generation  will rise above the hatred and join hands for peace and love.

We call upon you to join this campaign.

Visit My Home, Be My Guest

Weaving Lives Together

July 20-22, 2017

  1. Meet at least one family who is not from your religion/ class/ caste/ economic background/ sexual orientation/ region/ linguistic background. Go to their home and invite them to your house.
  2. Try to understand their life and culture.
  3. Take a selfie together and tweet using hashtag #SelfieWithGuest (Not to be done before 9am July 20th)
  4. Upload on the following facebook page

https://www.facebook.com/MereGharAaKeToDekhoIndia/

  1. if a Facebook page has been created in your city/ town/ locality upload on that facebook page. facebook page’s name should be MereGharAaKeToDekho after that you can add your city/ town/ community etc.
  2. Please send photographs and videos of your interaction to any one of the following whatsapp numbers:

9911016957 / 9811137421 / 8373940162 / 9979704474 / 9555999150 / 7503227553 / 8826768793 / 9818809018

  1. Kindly start uploading on 20th July from 9am onwards. First 50 videos will be released to the media
  2. Special request to people’s organisations, groups, activists, schools, colleges, institutions facilitate visits, encourage young people  , coordinate and make a facebook page for your city/ town, community etc.

Media Partner : Crowdnewsing

For more information contact Coordinators  : Shabnam Hashmi – 9811807558, Abha Bhaiya – 8629863963, Leena – 9811137421, Ovais: 9911016957/ 011 41670722


मेरे घर आ के तो देखो

जिंदिगियों को जोड़ने की कोशिश

जुलाई 20-22, 2017

क्यों  तुमने  मान  लिया  के  मैं  या  वो   या  और  कोई  तुम्हारा  दुश्मन  है ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के  वो   बुरा  है  क्यों  के  वो   मुसलमान  या  सिख  या  ईसाई   या  हिन्दू  है  ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के  वो   ख़राब  है  क्यों  के   वो   तुम्हारी  भाषा  नहीं  बोलता   वो   हिंदी  या  मलयालम  या  तमिल  या  उड़िया या कोई और भाषा  बोलता  है ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के   वो   चोर  है  क्योंकि  उसके  पास  खाने  को  नहीं  ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के   वो   आतंकवादी  है  क्योंकि  उसके  दाढ़ी  टोपी  या  पगड़ी  है ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के वो   नक्सली  है  क्योंकि   वो   अपने  जंगल  ज़मीन  को  छोड़ना  नहीं  चाहता ? क्यों  तुमने   मान  लिया  के   वो   बात  करने  लायक   नहीं  क्योंकि  उसको  क़ुदरत  ने  आदमी  या  औरत  नहीं  बनाया  ? क्यों  तुमने  मान  लिया  के   वो   बदचलन  है  क्यों  वह   पितृसत्तात्मक  ढांचे  में  ढलने  को  तैयार  नहीं  ? क्यों तुमने मान लिया के उसको साथ जीने का हक़ नहीं क्योंकि वो  समलैंगिग है ?

 

क्यों  तुम  भूल  गए  के  हम  सब  ही  तो  दशकों  से  साथ  साथ  रहते आये हैं   ? क्यों  तुम  भूल  गए  के इस देश का ताना बाना बुनने में हर एक  कौम , हर एक जाति , हर एक  भाषा बोलने वाले  का उतना ही हाथ है जितना तुम्हारा या मेरा  ?  क्यों  तुमने  सवाल  करना  छोड़  दिया ? तुम  क्यों  नहीं  पूछते  के  अवाम   के बीच यह नफ़रतें किसने और क्यों फैलायीं ? क्यों तुम नहीं पूछते के आम जनता के   खिलाफ  यह  साज़िशें  कौन रच रहा है?

 

क्या  तुम  नहीं  समझते  के  जो   नफरत , आतंक , जातिवाद , साम्प्रदायिकता का जाल  सारे  देश  में    फैलाया  गया  है  वो   इसलिए के कोई ये  न पूछे के बेरोज़गारी , महंगाई , असुरक्षा, ग़रीबी  क्यों है ? तुमने  क्यों   हर  आवाज़  उठाने  वाले  को  देशद्रोही  मान  लिया  ?

 

क्या  तुम  नहीं  चाहते  के  यह  सूरत   बदले ? क्या  तुम  नहीं  चाहते  के  हमारी  सभ्यता  का  ताना बाना मज़बूत  रहे  ? क्या  तुम  नहीं  मानते  के  नफरत  करने  से  बेहतर  है  मोहब्बत  करना  ?

 

उठो , मेरे  घर  आ  के  तो  देखो  …

मेरे घर आ  के तो  देखो  दूसरे लोगों / वर्गों / जातियों / धर्म / लिंग / भाषाई समुदायों के लोगों के बारे में पूर्वाग्रहों से लड़ने का एक सरल अभियान है । लोगों के साथ सीधे संपर्क की अनुपस्थिति में नफरत फैलाना बहुत आसान हो जाता है। अभियान का विचार सरल है लोग एक-दूसरे के घर जाएँ , साथ भोजन / चाय / पानी  करें,  इसका  अनुभव करें के दूसरे लोग कैसे रहते हैं.

 

हम यह दावा नहीं कर रहे हैं कि इससे एक समान समाज बन जाएगा और भेदभाव बंद हो जाएगा। यह एक छोटी सी पहल है, प्रयोग और एक-दूसरे के प्रति हमें अधिक मानवीय और संवेदनशील बनाने में एक छोटी सी शुरुआत है. हमें यक़ीन है के ख़ास कर नयी नौजवान पीढ़ी शांति और मोहब्बत के हक़ में अपनी आवाज़ बुलन्द करेगी .

 

हम आपको इस मोहिम में जुड़ने के लिए आमंत्रित करते हैं

जुलाई 20-22, 2017

  1. कम से कम एक नए परिवार से मिलें जो आपके धर्म / जाति/ भाषा / आर्थिक वर्ग /  लिंग / यौनिकता से अलग हो।  उनके घर जाएँ और उनको अपने घर बुलाएँ
  2. उनकी ज़िन्दगी , संस्कृति को जानने की कोशिश करें
  3. एक सेल्फी साथ लेकर उसे #SelfieWithGuest हैशटैग ट्वीट करें – जुलाई 20 को सुबह 9 बजे से , (उससे पहले बिलकुल न करें )
  4. नेशनल फेसबुक पेज पर अपलोड करें

https://www.facebook.com/MereGharAaKeToDekhoIndia/

  1. अगर आपके शहर / समूह ने कोई अपना फेसबुक पेज बनाया है तो उसपर अपलोड करें . फेसबुक पेज का नाम MereGharAaKeToDekho होना चाहिए उसके बाद आप अपने शहर , मोहल्ले, समूह का नाम जोड़ सकते हैं
  2. फोटो और वीडियो निम्नलिखित whatsapp नम्बरों में से केवल  किसी एक नम्बर पर ज़रूर  भेजें।

9911016957 / 9811137421 / 8373940162 / 9979704474 / 9555999150 / 7503227553 / 8826768793 / 9818809018

  1. 20 जुलाई को सुबह 9 बजे से फेसबुक पेज और whatsapp पर विडियो और फोटो भेजना शुरू करदें . पहली 50 विडियो आते ही मीडिया को रिलीज़ की जाएँगी
  2. संस्थाओं , कार्यकर्ताओं से ख़ास गुज़ारिश है के अपने अपने शहरों में ताल मेल करके शहर का एक एक फेसबुक पेज बना लें

मीडिया पार्टनर  : Crowdnewsing

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें : शबनम हाशमी – 9811807558, आभा भैया – 8629863963, लीना दबिरू  – 9811137421, ओवैस सुल्तान खान : 9911016957/ 011 41670722

Related posts

Comment (1)

  1. K SHESHU BABU

    The campaign is a step forward in helping foster communal harmony and integrating people of various religions and castes and gender. Such attempts must be appreciated

Leave a Reply

%d bloggers like this: