Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

Haan Maine Gujarat Ka Manzar Dekha Hai – हाँ…..मैंने गुजरात का मंजर देखा है….. #poem

Image result for Haan Maine Gujraat Ka Manzar Dekha Hai
Khoon Mein Dooba, Ang Ka Paikar Dekha Hai,.
Zakhmi Zakhmi Ek Kabutar Dekha Hai,.
Jalti Haweli Jalta Chapar Dekha Hai,.
Haan Maine Gujrat Ka Manzar Dekha Hai,.

Naam Mera Mazloom Hai, Main Ek Lardki Hoon,.
Jo Dekha Hai Maine, Wo Batlaati Hoon,.
GHar Ghar Aag Lagaai Hai, Gaddaron Ne,.
Izzat Looti Dharm Ke Theke Daaron Ne,.

Dharti Pe Shaitaano Ka Lashkar Dekha Hai,.
Haan Maine Gujrat Ka Manzar Dekha Hai,.

Sharm Se Gardan, Dhaamp Rakhi Hai Haiwaano Ne,.
Aisa Ghinona Khel, Rachaa Insaano Ne,.
Koi Dareenda, Bhi Na Kare, Wo Kaam Kiya,.
Maa Ke Pait Ko Cheer Ke Bachcha Maar Diya,.

Masoomo KO Talwaaron Par Dekha Hai,.
Haan Maine Gujrat Ka Manzar Dekha Hai,.

Aaine Ki Aard Mein Sab Patthar Dil The,.
Wardi Mein Bhi Masoomon Ke Katil The,.
Bachche Peer Jawaanon Ke Sar Kaat Diye,.
Insaano Ke Khoon Se Dariya Baant Diye,.

Aankhon Ne Laashon Ka Samader Dekha Hai,.
Haan Maine Gujrat Ka Manzar Dekha Hai,.

Jisne Dekha Manzar Aag Ugalta Hua,.
Jisne Dekha Ghar waalon KO Jalta Hua,.
Leke Shole Wo Bhi Nikal Aaye Na Kahin,.
Rukh Tasweer Ka Ulta Ho Jaaye Na Kahin,.

Sheeshe Ki Aankhon Mein Patthar Dekha Hai,.
Haan Maine Gujrat Ka Manzar Dekha Hai,.

-Shabeena Adeeb

​खून ​

में डूबा…..

 

.

 

जखमें जखमें अेक कबूतर देखा है
जलती हवेली….जलता छप्पर देखा है….
हाँ…..मैं ने गुजरात का मंजर देखा है..
नाम मेरा मजलूम है, मैं एक लडकी हूँ..
जो देखा है मैं ने…..वो बतलाती हूँ…..
घर घर आग लगाई हैं इन गद्दारों ने
इज्जत लूँटी है धर्म के ठेकेदारों ने…
धरती पे शैतानों का लश्कर देखा है…
हाँ मैं ने गुजरात का मजर देखा है….शर्म से गर्दन कम कर ली हैवानों ने
ऐसा घिनौना खेल रचा इन्सानों ने…
कोई दरिन्दा ही न करें, वो काम किया
माँ के पेट को चीर के बच्चा मार दिया…
माँ को माँ को तलवारों पर देखा है…
हाँ मैं ने गुजरात का मंजर देखा है…..

और आईनों की ताक में सब पत्थर दिल थे…
वर्दी में भी मासूमों के कातिल थे…
बच्चे, पीर, जवानों के सर काट दिये
इन्सानों के खून से दरिया पाट दिये
आँखोे से लाशों का समंदर देखा है……
हाँ…. मैं ने गुजरात का मंजर देखा है….

शबीना आदीब

 

Related posts

Comment (1)

  1. K SHESHU BABU

    A good poignant poem

Leave a Reply

%d bloggers like this: