Rss

  • stumble
  • youtube
  • linkedin

Rahi Massom Raza- Ganga aur Mahadev #Poem

      मेरा नाम मुसलमानों जैसा है

      मुझको क़त्ल करो

      और मेरे घर में आग लगा दो

      मेरे उस कमरे की इस्मत लूटो

      जिसमें मेरी बयाज़ें जाग रही हैं

      और मैं जिसमें तुलसी की रामायन से सरगोशी करके कालिदास के

      मेघदूत से ये कहता हूँ

      मेरा भी एक संदेसा है

      मेरा नाम मुसलमानों जैसा है।

      मुझको क़त्ल करो और मेरे घर में आग लगा दो

      लेकिन मेरी नस-नस में गंगा का पानी दौड़ रहा है

      मेरे लहू से चुल्लू भरकर महादेव के मुँह पर फेंको

      और उस जोगी से ये कह दो

      महादेव

      अब इस गंगा को वापस ले लो

      ये मलिच्छ तुर्कों के बदन में गाढ़ा गर्म लहू बन-बन कर दौड़ रही है।

      (‘ग़रीब-ए-शहर’में संकलित)

 

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: