A 64-year old widow, Premani Kunwar, died of hunger and exhaustion on 1 December in Danda Block of Garhwa district (Jharkhand). Till September 2017, she received her old age pension in her State Bank of India (SBI) account in Danda branch. Thereafter, without her knowledge, her pension amount was redirected to the SBI bank account of Shanti Devi in Piprakala branch (22 km from Danda). Shanti Devi, who died 25 years ago, was the first wife of Premani Kunwar’s husband late Mutur Mahto. Following the release of the fact-finding report on Premani Kunwar’s death by the Right to Food Campaign, UIDAI conducted an inquiry on 8 December. Its report (Annexure 1) acknowledges that Premani Kunwar’s old age pension had indeed been credited to Shanti Devi’s account which was linked with Premani Kunwar’s Aadhaar on 10 October 2017. The report also acknowledges that Premani Kunwar did not receive her ration for the month of November 2017, even though the dealer authenticated her biometrics in the POS machine for that month and also made an entry of 35kgs in her ration card. The issue of denial of ration was discussed at length in an earlier press release of the Right to Food Campaign on 7 December 2017.

According to a news report published in the Economic Times on 23 December, as per the report of the local police, Premani Kunwar, along with her youngest step-son, Sunil Mahto had “fudged her Aadhaar card” to avail Shanti Devi’s family pension. Shanti Devi’s account was being credited with a monthly family pension amount of Rs. 849 from the Coal Mines Provident Fund. As per the report submitted by the Branch Manager of Piprakala to the Inspector of Garhwa Police Station, Shanti Devi’s account was operated by Premani Kunwar and her family members. It further states that a sum of Rs. 30,000 was withdrawn in the name of Shanti Devi on 6 November 2017. The police arrested Sunil Mahto on 13 December for this withdrawal.

The reports of UIDAI and Economic Times leave many pertinent questions unanswered. As per the UIDAI report, the name in Premani Kunwar’s Aadhaar (UID no XXXXXXXX7606) was changed to “Shanti Devi” on 23 September 2015. This report fails to explain how, despite this change, Premani Kunwar continued to receive her pension in her Aadhaar linked bank account till September 2017. There is also no explanation of how a bank account could be opened in the name of Shanti Devi in 2007, given that she died over two decades ago. The KYC of Shanti Devi’s account was last updated on 7 December, just a day before the UIDAI team’s visit. This draws suspicion on the complicity of bank functionaries, among others, in the fraudulent withdrawal of money from this account. The bank manager of the Piprakala branch of SBI refused to share with the Right to Food Campaign fact finding team the KYC documents that were used to open Shanti Devi’s account. There is also no explanation from UIDAI on how UID no XXXXXXXX7606 was linked with bank account numbers of Premani Kunwar as well as Shanti Devi.

These issues highlight the vulnerability of the Aadhaar-bank integration system. Recently, a massive scam of opening Aadhaar-linked Airtel payment bank accounts of Airtel network subscribers without their consent was unearthed. In 2016, ICICI Bank opened accounts of around 6000 NREGA workers in Boram block of East Singhbhum district without their consent and linked them to their Aadhaar. Shell accounts have been used to siphon off NREGA wages, as a recent investigation in Mahuadanr Block (Latehar district, Jharkhand) revealed. A Member of Parliament also recently became a victim of fraudulent withdrawal after fraudsters used the OTP sent to the MP’s mobile to authenticate Aadhaar-based online transfer of fund.

The police report holds Sunil Mahto solely responsible for the fraudulent withdrawal of money from Shanti Devi’s bank account. Even if he was involved in this misdeed, he could not have done so without the complicity of (1) bank functionaries involved in opening Shanti Devi’s account in 2007; (2) persons who verified the change of name from Premani Kunwar name to Shanti Devi in UID no XXXXXXXX7606; (3) bank functionaries who linked Premani Kunwar’s Aadhaar number with Shanti Devi’s account and (4) bank functionaries who updated the KYC of Shanti Devi’s bank account on 7 Dec 2017.

The bare two-room dilapidated kutcha house of Premani Kunwar stands witness to her death amidst abject poverty. In the absence of PDS grain, she had to borrow rice from her neighbours to survive. There is no doubt that Premani lived in a state of semi-starvation. It is now well established that she did not receive her grain entitlement for August and November and her pension for September and October. Premani’s death is a grim reminder of how vulnerable people like her routinely experience uncertainties in accessing their lifelines owing to complex systems like Aadhaar. Premani Kunwar’s son, Uttam Mahto has clearly testified in a video as well as a written statement (Annexure 2) that his mother died due to starvation. However, as per the report of the Block Development Officer of Danda, Uttam Mahto testified to his mother’s death due to illness. This exposes the local administration’s attempt to cover up the actual cause of Premani Kunwar’s death.

Further, the administration lodged complaints against the local whistle-blowers who drew attention to Premani Kunwar’s death due to starvation. It filed FIRs against Birendra Chowdhary, Pramukh of Danda, Kalicharan Mahto and Sushma Mahto for “causing disruption of government inquiry and for instilling fear in the government inquiry team”. It is also alleged that they tore government documents in the process which the defendants have denied.

As in the cases of previous deaths due to starvation in Jharkhand, the government has denied the role of Aadhaar integration with welfare programmes or administrative lapses that led to the denial of entitlements. It has instead been harassing the surviving members of the families suffering from starvation. The Right to Food Campaign demands that the FIRs against the local whistle-blowers be withdrawn. It also demands answers to these puzzling issues:

  1. Why – and by whom – was the KYC of Shanti Devi’s bank account updated on 7 December 2017, a day before the UIDAI inquiry report?
  2. How was an account opened in the name of Shanti Devi (who died 25 years ago) in the Piprakala branch of SBI in 2007?
  3. On what basis, was Premani Kunwar’s name of changed to Shanti Devi in UID number XXXXXXXX7606 in 2015?
  4. If Premani Kunwar had indeed changed her name in the Aadhaar to Shanti Devi in 2015, why did it take two years to get her Aadhaar number linked to the SBI account of Shanti Devi?
  5. How was UID no XXXXXXXX7606 in the name of “Shanti Devi” (since 2015) linked to both Shanti Devi and Premani Kunwar’s bank accounts and the latter’s old age pension?  
  6. Premani Kunwar’s son, Uttam Mahto has clearly testified that his mother died due to starvation. Why then does the BDO’s report claim that Uttam ascribed his mother’s death to illness?

Attached are two detailed reports (Annexure 3 and 4) on Premani Kunwar’s death, based on fact-finding visits by members of the Right to Food Campaign. 

For further information, please contact Rajendran (9620318492) or Siraj (9939819763).

झारखंड में विधवा की भुखमरी से हुई मौत के लिए ज़िम्मेवार त्रुटीपूर्ण  आधार-बैंकिंग व्यवस्था से जुड़े कई सवालों पर सरकार चुप

झारखंड के गढ़वा ज़िले के डंडा प्रखंड में 1 दिसम्बर को 64 वर्षीय विधवा प्रेमनी कुंवर की भुखमरी और थकावट से मौत हो गयी. सितम्बर 2017 तक उन्हें उनकी वृद्धा पेंशन उनके भारतीय स्टेट बैंक की डंडा शाखा के  खाते में मिल रही थी. इसके बाद, बिना उनकी जानकारी के, उनकी पेंशन राशि भारतीय स्टेट बैंक के पिप्राकला शाखा (डंडा से 22 किमी दूर) में शांति देवी के नाम से खुले खाते में जमा होने लगी. शांति देवी, जिनकी मृत्यु 25 साल पहले हो गयी थी, प्रेमनी कुंवर के पति स्वर्गीय मुटूर महतो की पहली पत्नी थीं. भोजन के अधिकार अभियान द्वारा तथ्यान्वेषण रिपोर्ट जारी होने के बाद UIDAI ने 8 दिसम्बर को इस मामले की जाँच की. उनकी रिपोर्ट (अनुलग्नक 1) इस बात की पुष्टि करती है कि प्रेमनी कुंवर की सितम्बर और अक्टूबर 2017 की वृद्धा पेंशन शांति देवी के नाम से खुले बैंक खाते में गई थी (10 अक्टूबर 2017 को प्रेमनी कुंवर का आधार शान्ति देवी के नाम से खुले खाते के साथ लिंक हो गया था). रिपोर्ट ने इस बात को भी स्वीकारा है कि प्रेमनी कुंवर को नवम्बर 2017 का राशन नहीं मिला था, जबकि उनका उस महीने के राशन के लिए डीलर द्वारा अंगूठे का निशान ले लिया गया था और उनके राशन कार्ड में नवम्बर 2017 के लिए 35 किलो अनाज की एंट्री भी हो गई थी. प्रेमनी कुंवर को राशन न मिलने के मुद्दे  पर भोजन का अधिकार अभियान के 7 दिसम्बर की प्रेस विज्ञप्ति में विस्तृत  चर्चा की गयी है.

23 दिसम्बर 2017 को Economic Times में छपी खबर के अनुसार, स्थानीय पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है कि शांति देवी की पारिवारिक पेंशन लेने के लिए प्रेमनी कुंवर ने अपने सौतेले बेटे सुनील महतो के साथ मिलकर अपने आधार कार्ड में हेरा-फेरी की थी. शांति देवी के नाम से खुले बैंक खाते में Coal Mines Provident Fund अंतर्गत 849 रुपये की मासिक पेंशन राशि जमा होती थी. पिप्राकला शाखा के बैंक प्रबंधक द्वारा गढ़वा थाना इंस्पेक्टर को दी गयी रिपोर्ट के अनुसार शांति देवी के खाते का प्रयोग प्रेमनी कुंवर और उनके परिवार के सदस्यों द्वारा किया जा रहा था. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 6 नवम्बर 2017 को शांति देवी के नाम से खुले खाते से 30000 रुपये की निकासी हुई थी. पुलिस ने सुनील महतो को इस निकासी के लिए 13 दिसम्बर को गिरफ्तार किया.

लेकिन, UIDAI और Economic Times की रिपोर्टें कई महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर चुप हैं. UIDAI की रिपोर्ट के अनुसार, 23 सितम्बर 2015 को प्रेमनी कुंवर के आधार (आधार संख्या XXXXXXXX7606) में दिए गए नाम को “शांति देवी” में बदला गया था. लेकिन रिपोर्ट में यह चर्चा नहीं हुई है कि नाम बदलने के बावज़ूद कैसे प्रेमनी कुंवर को उनके आधार से जुड़े पेंशन खाते (डंडा शाखा में) में सितम्बर 2017 तक पेंशन मिल रही थी. इस पर भी कोई व्याख्या नहीं है कि कैसे 2007 में शांति देवी के नाम पर एक बैंक खाता खोला गया था, जबकि उनकी मृत्यु दो दशक पहले ही हो गयी थी. UIDAI जाँच दल के आने के ठीक एक दिन पहले शांति देवी के नाम से खोले गए खाते का KYC 7 दिसम्बर को बदला गया था. यह इस खाते से हुई निकासी में बैंक कर्मियों की मिलीभगत की ओर भी इंगित करता है. SBI के पिप्राकला शाखा के प्रबंधक ने भोजन के अधिकार अभियान के तथ्यान्वेषण दल के साथ शांति देवी के नाम से खोले गए खाते के KYC दस्तावेज़ों को साझा करने से इंकार कर दिया. UIDAI द्वारा इस बात की भी पुष्टि नहीं की गयी है कि दोनों प्रेमनी कुंवर और शांति देवी के खाते एक ही आधार संख्या XXXXXXXX7606 से कैसे लिंक हो गए.

इन मुद्दों से आधार-बैंकिंग व्यवस्था की कमजोरियां उजागर होती हैं. हाल ही में इस बात का खुलासा हुआ था कि एयरटेल मोबाइल सेवा प्रयोग करने वाले ग्राहकों की सहमती के बिना ही उनका एयरटेल पेमेंट बैंक खाता खोला जा रहा था. 2016 में पूर्वी सिंगभूम के बोराम प्रखंड में ICICI बैंक द्वारा 6000 नरेगा मज़दूरों का आधार-लिंक्ड बैंक खाता बिना उनकी जानकारी के खोला गया था. लातेहार के महुआडाँर प्रखंड में हुई जांच में पता चला  कि किस प्रकार ऐसे फ़र्ज़ी बैंक खाते खोल कर नरेगा मज़दूरी का गबन होता है. कुछ दिनों पहले एक सांसद भी फ़र्ज़ी निकासी के शिकार बन गयें जब उनके मोबाइल पर भेजे गए OTP को इस्तेमाल कर के आधार के माध्यम से पैसो की ऑनलाइन निकासी कर ली गयी.

शांति देवी के बैंक खाते से फ़र्ज़ी निकासी करने के लिए पुलिस रिपोर्ट केवल सुनील महतो को ही ज़िम्मेवार मानती है. अगर इसमें सुनील महतो की भूमिका रही भी हो, लेकिन वह यह निकासी निम्न लोगों के सहयोग के बिना नहीं कर पाते: (1) 2007 में शान्ति देवी के नाम से खाता खोलने के लिए ज़िम्मेवार बैंक कर्मी; (2) आधार में प्रेमनी कुंवर के नाम को शांति देवी करने के लिए ज़िम्मेवार लोग; (3) प्रेमनी कुंवर के आधार नंबर को शांति देवी के खाते से जोड़ने के लिए ज़िम्मेवार बैंक कर्मी और (4) शांति देवी के खाते के KYC को 7 दिसम्बर 2017 को अपडेट करने वाले बैंक कर्मी.

प्रेमनी कुंवर का दो कमरों का लगभग खाली जीर्ण घर इस बात का साक्ष्य है कि प्रेमनी की मृत्यु अत्यंत गरीबी की स्थिति में ही हुई है. राशन वितरण प्रणाली से अनाज न मिलने के कारण उन्हें नवम्बर में पड़ोसियों से चावल मांगना पड़ा था. इसमें कोई शक नहीं है कि प्रेमनी भुखमरी की स्थिति में ही जी रही थी. यह भी अब प्रमाणित हो गया है कि उन्हें अगस्त और नवम्बर माह का राशन और सितम्बर-अक्टूबर की पेंशन नहीं मिली थी.

यह हादसा दर्शाता है कि कैसे आधार जैसी जटिल व्यवस्थाओं के कारण हाश्ये पर रहने वाले लोगों को जीवनरेखा समान मूलभूत सुविधाएं प्राप्त करने में रोज़ाना अनिश्चितताओं का सामना करना पड़ता है. प्रेमनी कुंवर के बेटे, उत्तम महतो ने स्पष्ट रूप से लिखित (अनुलग्नक 2) एवं विडियो गवाही दी है कि उसकी माँ की मृत्यु भुखमरी के कारण हुई है. हालाँकि, डंडा के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि उत्तम महतो ने गवाही दी है कि उसकी माँ की मृत्यु बीमारी के कारण हुई है. यह इस बात को इंगित करता है कि स्थानीय प्रशासन प्रेमनी कुंवर की मौत के असली कारण को छुपाने की कोशिश कर रही है.

साथ ही, जिन स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भुखमरी के कारण प्रेमनी कुंवर की  हुई मौत को उजागर किया था, प्रशासन ने उनके विरुद्ध ही प्राथमिकी दर्ज कर दी है. प्रशासन ने कालीचरण महतो, सुषमा महतो और डंडा के प्रमुख बिरेन्द्र चौधरी के विरुद्ध सरकारी जांच में बाधा डालने और सरकारी जांच दल को भयभीत करने के आरोप पर प्राथमिकी दर्ज कर दी है. प्रशासन ने यह भी आरोप लगाया है कि इन लोगों ने जांच दल के दस्तावेज़ फाड़ दिए थे जिसे प्रतिवादियों ने नकारा है.

सरकार ने झारखंड में भुखमरी से हुई मौतों के लिए ज़िम्मेवारी नहीं ली है. सरकार  प्रेमनी की मौत में सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रमों को आधार से जोड़ने की भूमिका एवं प्रशासनिक चूकों को मानने के लिए तैयार नहीं है. साथ ही, भुखमरी से पीड़ित परिवारों को ही परेशान किया जा रहा  है. भोजन का अधिकार अभियान झारखंड सरकार से यह मांग करता है कि स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं पर दर्ज प्राथमिकी वापस ली जायें. साथ ही, अभियान झारखंड सरकार व UIDAI से निम्न मुद्दों के जवाबमांगता है:

  • शांति देवी के बैंक खाते का KYC आखरी बार 7 दिसम्बर को (UIDAI जांच दल के आने के एक दिन पहले) क्यों और किसके द्वारा अपडेट किया गया?
  • 2007 में शांति देवी (जिनकी मृत्यु 25 साल पहले हो गयी थी) के नाम पर SBI के पिप्राकला शाखा में बैंक खाता कैसे खुला?
  • कैसे2015 में आधार संख्या XXXXXXXX7606 में प्रेमनी कुंवर का नाम बदल कर शांति देवी किया गया?
  • अगर प्रेमनी कुंवर ने 2015 में आधार में अपने नाम को शांति देवी में बदला था, तो शांति देवी के SBI खाता से उस आधार को लिंक करने में दो साल क्यों लगें?
  • एक ही आधार संख्या XXXXXXXX7606 (2015 से शांति देवी के नाम पर) कैसे दोनों शांति देवी और प्रेमनी कुंवर के बैंक खातों से और प्रेमनी की पेंशन से जुड़ा हुआ था?
  • प्रेमनी कुंवर के बेटे उत्तम महतो ने स्पस्ट गवाही दी है कि उसकी माँ भुखमरी से मरी थीं. इसके बावज़ूद, डंडा के प्रखंड विकास पदाधिकारी ने अपनी रिपोर्ट में क्यों यह दावा किया है कि उत्तम महतो ने गवाही दी है कि उसकी माँ की मौत बीमारी से हुई है?

प्रेमनी कुंवर की मृत्यु पर भोजन का अधिकार अभियान, झारखंड के दो तथ्यान्वेषण दलों द्वारा बनाई गयी रिपोर्ट (अनुलग्नक 3 और 4) संलग्न है. 

अधिक जानकारी के लिए राजेंद्रन (9620318492) या सिराज (9939819763) से संपर्क कर सकते हैं.

Related posts